डेयरी उद्यमिता विकास योजना में आवेदन कैसे करें?

देश में पशुपालन को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार द्वारा डेयरी उद्यमिता विकास योजना ( Dairy Entrepreneurship Development Scheme ) का आरम्भ किया गया है | इस योजना के अन्तर्गत पशुपालको को गाय और भैंस खरीदने तथा उन्हें पालने के लिए सरकार द्वारा लोन प्रदान किया जायेगा | राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) के माध्यम से शुरू की गई डेयरी उद्यमिता विकास योजना के लिए केंद्र सरकार के विकास मंत्रालय द्वारा 325 करोड़ रुपये का बजट तैयार किया गया है | भारत में अधिकतर लोग ग्रामीण क्षेत्र में रहते है, जिस वजह से उन्हें किसी न किसी तरह के रोजगार की आवश्यकता होती है |

हमने डेयरी उद्यमिता विकास योजना की सारी जानकारी, योजना से संबंधित सरकारी वेबसाइट से निकाली है। जानकारी में किसी भी प्रकार का बदलाव होने पर आप योजना से संबंधित वेबसाइट पर जाएं। इस ब्लॉग में दी गयी किसी भी जानकारी के लिए शबला सेवा किसी भी तरह से जिम्मेदार नहीं है।

डेयरी उद्यमिता विकास योजना के मुख्य उद्देश्य ( Main Objectives of Dairy Entrepreneurship Development Scheme )

सरकार किसानों को कुशल और आत्मनिर्भर बनाने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। नई-नई योजनाओं के माध्यम से आर्थिक लाभ पहुँचाकर किसान को कुशल बनाया जा रहा है, आसानी से लोन देकर उन्हें स्वरोजगार हेतु प्रोत्साहित किया जा रहा है। खेती के साथ-साथ किसान अन्य माध्यम से भी आय कर सके यह हमेशा से ही केंद सरकार की रणनीति रही है। डेयरी उद्यमिता विकास योजना का मुख्य उद्देश्य भी किसान को आर्थिक आय पहुँचाने से जुड़ा है। इस योजना के तहत सरकार लोगों को डेयरी खोलने और उससे सबंधित अन्य कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करती है। पशुपालन, दुग्ध उत्पादन की प्रोसेसिंग, वर्मी कम्पोस्ट, डेयरी पार्लर, मिल्क कोल्ड स्टोरेज जैसे अन्य कार्यों को शुरू करने वाले लोगों को सरकार सब्सिडी के साथ लोन भी मुहैया करवाती है।

डेयरी उद्यमिता विकास योजना के लाभ ( Benefits of Dairy Entrepreneurship Development Scheme )

1. लोगों के लिए स्वरोजगार उत्पन्न करना और उन्हें मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराना।
2. पौष्टिक और स्वच्छ दूध उत्पादन के लिए आधुनिक डेयरी फार्मों की स्थापना करना।
3. पशुपालन को प्रोत्साहित करना, ताकि उनकी रक्षा की जा सके।
4. असंगठित क्षेत्र में संरचना में परिवर्तन करना, ताकि दूध का प्राथमिक प्रसंस्करण ग्राम स्तर पर ही किया जा सके।
5. पारंपरिक तकनीकों में नई तकनीकों को शामिल कर दूध की गुणवत्ता में सुधार करना।

डेयरी उद्यमिता विकास योजना के लिए जरूरी दस्तावेज ( Documents required for Dairy Entrepreneurship Development Scheme )

1. आधार कार्ड ( Aadhar Card )
2. पहचान पत्र ( identity Card )
3. जाति प्रमाण पत्र ( Caste Certificate )
4. निवास प्रमाण पत्र ( Address Proof )
5. पासपोर्ट साइज़ फोटो ( Passport Size Photo )

डेयरी उद्यमिता विकास योजना में आवेदन कैसे करें ( How to apply in Dairy Entrepreneurship Development Scheme )

डेयरी उद्यमिता विकास योजना ( Dairy Entrepreneurship Development Scheme ) योजना के माध्यम से लोन के लिए बैंक जाकर शाखा प्रबंधक से बात करनी होगी। बैंक से एक फॉर्म दिया जाता है। उस फॉर्म को भरने के बाद सभी जरूरी दस्तावेज फॉर्म के साथ जमा करने होंगे। इसके बाद, व्यक्ति को अपने ऋण आवेदन की स्थिति की जांच करने के लिए नियमित रूप से बैंक जाना होगा।

डेयरी उद्यमिता विकास योजना का निष्कर्ष ( Conclusion of Dairy Entrepreneurship Development Scheme )

भारत को गाँवों का देश कहा जाता है। भारत में बारें में कहा जाता है कि यहां कि 75% जनसँख्या ग्रामीण ईलाकों में निवास करती है। जब इतनी बड़ी जनसँख्या ग्रामीण ईलाकों में निवास करती है, तो स्वभाविक तौर पर इन लोगों को रोजगार की जरूरत पड़ती होगी।
ग्रामीण भारत में दूध का व्यापार बहुत बड़ी संख्या में होता है। अगर दूध के व्यापार को डेयरी के तर्ज पर किया जाये तो इस बिजनेस में बेहतर मुनाफा प्राप्त होगा। सरकार पशुपालकों को डेयरी खोलने के लिए प्रोत्साहन दे रही है। प्रोत्साहन के तौर पर 33% सब्सिडी पर लोन मुहैया कराया जाता है।
पशुपालन के लिए कितना लोन मिलता है? किसानों की आय बढ़ाने और लोगों को स्वरोजगार मुहैया कराने के लिए नाबार्ड डेयरी लोन के तहत पशुपालन के लिए 12 लाख रुपये का लोन मिलेगा जिसमें 50 फीसदी सब्सिडी भी मिलेगी।

आप शबला सेवा की मदद कैसे ले सकते हैं? ( How Can You Take Help of Shabla Seva? )

  1. आप हमारी विशेषज्ञ टीम से खेती के बारे में सभी प्रकार की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।
  2. हमारे संस्थान के माध्यम से आप बोने के लिए उन्नत किस्म के बीज प्राप्त कर सकते हैं।
  3. आप हमसे टेलीफोन या सोशल मीडिया के माध्यम से भी जानकारी और सुझाव ले सकते हैं।
  4. फसल को कब और कितनी मात्रा में खाद, पानी देना चाहिए, इसकी भी जानकारी ले सकते हैं।
  5. बुवाई से लेकर कटाई तक, किसी भी प्रकार की समस्या उत्पन्न होने पर आप हमारी मदद ले सकते हैं।
  6. फसल कटने के बाद आप फसल को बाजार में बेचने में भी हमारी मदद ले सकते हैं।
kisan-credit-card

संपर्क

अधिक जानकारी के लिए हमसे संपर्क करें +91 9335045599 ( शबला सेवा )

आप नीचे व्हाट्सएप्प (WhatsApp) पर क्लिक करके हमे अपना सन्देश भेज सकते है।

Become our Distributor Today!

Get engaged as our distributor of our high quality natural agricultural products & increase your profits.

Translate »