चकोतरा का उपयोग, फायदा एवं चकोतरा की खेती

kisan-credit-card
चकोतरा एक फल है, जो उस निम्बू-वंश का सबसे बड़ी जातियों में से एक है। चकोतरा का फल जब कच्चा होता है तब हरा और पकने के बाद हल्का हरा या पीला हो जाता है। इसका स्वाद हल्का खट्टा-मीठा होता है। यह भारतीय उपमहाद्वीप और दक्षिण पूर्वी एशिया क्षेत्र की जन्मी हुई जाति है और भारत में इसकी खेती झारखंड में की जा सकती है।

चकोतरा एक ऐसा फल है जिसका स्वाद खट्टा मीठा होता है। चकोतरा जो बाहर से संतरे जैसा दिखने वाला फल है। चकोतरा संतरा नींबू प्रजाति का फल है। जब यह फल कच्चा होता है तो इसके छिलके का रंग हरा होता है और जब यह पूरी तरह से पक जाता है तो इसका रंग पीला या हल्का नारंगी हो जाता है। 

चकोतरा में पाये जाने वाले खनिज ( Minerals Found in Grapefruit )

चकोतरा में पोटेशियम ( Potassium ), जिंक ( Zinc ), फास्फोरस ( Phosphorus ), मैंगनीज ( Manganese ), सेलेनियम ( Selenium ), विटामिन ( Vitamin ) C, थायमिन ( Thiamine ), राइबोफ्लेविन ( Riboflavin ), नियासिन ( Niacin ), पैंटोथेनिक एसिड ( Panthenic acid ), विटामिन B6, फोलेट ( Folate ), कार्बोहाइड्रेट ( Carbohydrate ) , प्रोटीन ( Protein ), फैट ( Fat ), फाइबर ( Fiber ), चीनी ( Sugar ), कैल्शियम ( Calcium ), आयरन ( Iron ), मैग्नीशियम ( Magnesium ) पाए जाते हैं।

चकोतरा के स्वास्थ्यवर्धक फायदे ( Health Benefits Of Grapefruit )

  1. चकोतरा हड्डियों को मजबूत बनाने और गठिया रोग को दूर करने में मदद करता है। 
  2. चकोतरा आंखों की रोशनी बढ़ाता है बल्कि आंखों को स्वस्थ भी बनाता है। 
  3. चकोतरा कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करते हैं बल्कि कोलेस्ट्रॉल से जुड़ी समस्याओं जैसे दिल की                  समस्याओं आदि के खतरे को भी कम करने में मदद करता है। 
  4. बालों को मजबूत और खूबसूरत बनाने में चकोतरा बहुत उपयोगी होता है। 
  5. रोजाना चकोतरा के जूस का सेवन करने से थकान, कब्ज, अपच जैसी समस्याओं से बचाने में मददगार      होता है।

चकोतरा की खेती ( Grapefruit Cultivation )

चकोतरा की खेती विशेषकर गर्म एवं शुष्क क्षेत्रों में सफलतापूर्वक की जा सकती है। इसे अच्छे जल निकास वाली मिट्टी में बोया जाता है। पौधे अपने पांचवें महीने के आसपास बीज से अंकुरित होते हैं और पूरी तरह विकसित होने में 8-10 महीने लग सकते हैं। पौधों के बीच आवश्यक अंतराल पर पानी देना आवश्यक है. उच्च गुणवत्ता वाले बीजों का चयन करके, रोपण और अंकुरण के साथ उच्च उत्पादन प्राप्त किया जा सकता है, और अंगूर के फल का उपयोग स्वादिष्टता और विपणन मूल्य संवर्धन के लिए किया जाता है।

1. चकोतरा की खेती के लिए जलवायु मिट्टी व तापमान ( Climate Soil and Temperature for Grapefruit Cultivation )

चकोतरा की खेती के लिए उपोष्ण कटिबंधीय अर्द्धशुष्क जलवायु अत्यंत उपयुक्त होती हैं। इसके लिए अधिक ठण्ड और पाला सही नहीं होता हैं। फलों के पकने के समय शुष्क जलवायु और कम तापमान में फलों में अच्छी मिठास विकसित होती हैं। हल्की एवं मध्यम उपज बलुई दोमट वाली मिट्टी उपयुक्त होता है, इसकी खेती के लिए अच्छे जलनिकास वाली लाल लैटराइट मिट्टी भी उपयुक्त होती हैं। इसके लिए अम्लीय पी.एच. मान मिट्टी अनुकूल होती हैं।

2. खेत की तैयारी( Field Preparation )

पौधरोपण के पहले खेत की अच्छी तरह जुताई कर खेत को समतल और भुरभुरा बना लेना चाहिए। और खेत को खरपतवार मुक्त कर गड्ढो की खुदाई करें। और गड्ढो में पौधरोपण से पूर्व खाद एवं वर्मी कम्पोस्ट डालकर पौधों की रोपाई करना चाहिए।

3. चकोतरा की किस्में ( Grapefruit Varieties )

इसकी किस्मों में से कुछ किस्में मार्स सीडलेस, गंगानगर रेड, रूबी रेड, डंकन, फोस्टर, थाम्पसन, मार्श आदि है।

4. बुवाई का समय तरीका व पौधे लगाने के लिए दुरी ( Sowing Time Method and Distance for Planting )

पौधे लगाने के लिए जुलाई-अगस्त का माह सबसे उपयुक्त हैं। बीज के माध्यम और कलम विधि द्वारा चकोतरा की बुवाई की जाती हैं। इसे बेन्डिंग और ग्राफ्टिंग विधि द्वारा विकसित किया जाता है। सर्वप्रथम बीजों द्वारा नर्सरी तैयार की जाती हैं। पौधा लगाने के लिए 5X5 मीटर की वर्गाकार विधि से 50X50X50 से.मी. के गड्ढे खोद लें।

5. चकोतरा की खेती में सिंचाई प्रबंधन ( Irrigation Management in Grapefruit Cultivation )

चकोतरा के पौधों के विकास के लिए खेत में नमी की आवश्यकता होती हैं इसीलिए पहली सिंचाई पौधा रोपने के तुरंत बाद करें। उसके बाद खेत को नम रखने के लिए जरुरत पड़ने पर सिचाई देते रहे। खरपतवार की रोकथाम के लिए आवश्यकतानुसार समय समय पर निराई गुड़ाई करना चाहिए जिससे पौधे के विकास में कोई बाधा ना हो।

चकोतरा के पौधों के विकास और अच्छी उपज प्राप्त करने के लिए उसका देखभाल करना जरुरी है इसीलिए समय-समय पर पौधों की कटाई-छटाई करते रहना चाहिए।

चकोतरा के उत्पादक स्थान ( Grapefruit Production Areas )

चकोतरा मूल रूप से भारतीय उपमहाद्वीप और दक्षिण पूर्व एशिया क्षेत्र की मूल प्रजाति है।

चकोतरा की खेती में लागत और आय ( Cost and Earnings in Grapefruit Cultivation )

चकोतरा के एक पौधे से लगभग 2000-3000 फल प्रति वर्ष उपज प्राप्त होती है। फल की तुडाई करने के बाद साफ गिले कपड़े से पूंछ लें और छायादार स्थान पर सूखा दें। इसके बाद फलों को किसी हवादार बॉक्स में सूखी घास के साथ भर देते हैं। अब बॉक्स को बंद कर बाज़ार में भेज सकते है। सिर्फ 1 हेक्टेयर (Hectare) खेती में 6 माह में 30 लाख रुपये तक का लाभ ले सकते है।

आप शबला सेवा की मदद कैसे ले सकते हैं? ( How Can You Take Help of Shabla Seva? )

  1. आप हमारी विशेषज्ञ टीम से खेती के बारे में सभी प्रकार की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।
  2. हमारे संस्थान के माध्यम से आप बोने के लिए उन्नत किस्म के बीज प्राप्त कर सकते हैं।
  3. आप हमसे टेलीफोन या सोशल मीडिया के माध्यम से भी जानकारी और सुझाव ले सकते हैं।
  4. फसल को कब और कितनी मात्रा में खाद, पानी देना चाहिए, इसकी भी जानकारी ले सकते हैं।
  5. बुवाई से लेकर कटाई तक, किसी भी प्रकार की समस्या उत्पन्न होने पर आप हमारी मदद ले सकते हैं।
  6. फसल कटने के बाद आप फसल को बाजार में बेचने में भी हमारी मदद ले सकते हैं।

संपर्क

अधिक जानकारी के लिए हमसे संपर्क करें +91 9335045599 ( शबला सेवा )

आप नीचे व्हाट्सएप्प (WhatsApp) पर क्लिक करके हमे अपना सन्देश भेज सकते है।

Become our Distributor Today!

Get engaged as our distributor of our high quality natural agricultural products & increase your profits.

Translate »