टमाटर का उपयोग, फायदा एवं टमाटर की खेती

kisan-credit-card

टमाटर (Tomato) का वैज्ञानिक नाम “सोलेनम लाइकोपर्सिकॉन (Solanum Lycopersicon)” है। टमाटर वास्तव में एक फल है, लेकिन इसे आमतौर पर सब्जी के रूप में खाया जाता है। टमाटर का रंग लाल, पीला, नारंगी और हरा हो सकता है। यह दुनिया भर के व्यंजनों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है। आज दुनिया भर में टमाटर की 7500 से अधिक किस्में मौजूद हैं। टमाटर का जन्म दक्षिण अमेरिका के एंडीज पर्वतों में हुआ था। टमाटर को विभिन्न तरीकों से खाया जा सकता है, जैसे कि कच्चा, पका हुआ, सलाद में, सूप में, चटनी में और जूस में आदि।

माया और एज़्टेक सभ्यताएं इसे 700 ईस्वी पूर्व से ही उगा रही थीं। 18वीं शताब्दी में, टमाटर धीरे-धीरे इटली, फ्रांस और स्पेन में भोजन में इस्तेमाल होने लगा। 19वीं शताब्दी तक यह पूरी दुनिया में लोकप्रिय हो गया। टमाटर 16वीं शताब्दी में पुर्तगालियों द्वारा भारत लाया गया था। धीरे-धीरे यह आम लोगों के बीच भी लोकप्रिय हुआ।

टमाटर में पाए जाने वाले पोषक तत्व ( Nutrients Found in Tomatoes )

टमाटर एक पौष्टिक फल है जो कई आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर होता है। टमाटर में विटामिन (Vitamins) में विटामिन C, विटामिन K, विटामिन A और विटामिन B6 होता है। टमाटर में खनिजों में मैग्नीशियम (Magnesium), पोटेशियम (Potassium), आयरन (Iron) और फास्फोरस (Phosphorus) आदि होता है। टमाटर में अन्य पोषक तत्वों में फाइबर (Fiber), फोलेट (Folate) और लाइकोपीन (Lycopene) पाए जाते हैं। टमाटर में पाए जाने वाले कुछ अन्य पोषक तत्वों में नियासिन (Niacin), थायमिन (Thiamine), राइबोफ्लेविन (Riboflavin),  जस्ता (Zinc) और तांबा (Copper) शामिल हैं।

टमाटर के सेवन से होने वाले फायदे ( Benefits of Consuming Tomatoes )

टमाटर एक स्वादिष्ट और पौष्टिक फल है जो आपके आहार में शामिल करने के लिए एक अच्छा विकल्प है। टमाटर आपके स्वास्थ्य के लिए अनेक फायदे प्रदान करता है।

  1. टमाटर में लाइकोपीन नामक एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट होता है जो हृदय रोग के खतरे को कम करने में मदद करता है।
  2. यह रक्तचाप को नियंत्रित करने, कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने और रक्त के थक्के बनने से रोकने में भी सहायक होता है।
  3. टमाटर कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकने में मदद करते हैं। अध्ययनों से पता चला है कि टमाटर का सेवन प्रोस्टेट कैंसर, फेफड़ों के कैंसर और पेट के कैंसर के खतरे को कम कर सकता है।
  4. टमाटर में फाइबर होता है जो पाचन क्रिया को बेहतर बनाने और कब्ज को रोकने में मदद करता है।
  5. टमाटर त्वचा को सूरज की हानिकारक किरणों से बचाता है और झुर्रियों और महीन रेखाओं को कम करने में भी सहायक होता है।
  6. टमाटर रतौंधी और मोतियाबिंद जैसी आंखों की समस्याओं से बचाने में सहायक होता है।
  7. टमाटर प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने और बीमारियों से लड़ने में मदद करता है।
  8. टमाटर में कैलोरी कम और फाइबर अधिक होता है, जो वजन घटाने में सहायक होता है।
  9. टमाटर में विटामिन K और कैल्शियम होता है जो हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करते हैं।
  10. टमाटर में क्रोमियम होता है जो रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है।
  11. टमाटर मूत्र पथ के संक्रमण को रोकने में मदद करता है।

टमाटर की खेती ( Tomato Cultivation )

टमाटर की खेती करना एक फायदेमंद अनुभव हो सकता है। अपने खुद के टमाटर उगाना ताजा, स्वादिष्ट उपज का आनंद लेने का एक शानदार तरीका है, और यह बहुत फायदेमंद भी हो सकता है। ज्यादा जानकारी के लिए शबला सेवा से 9335045599 पर सम्पर्क करें।

टमाटर उगाने के लिए सही किस्म कैसे चुनें ( How to Choose the Right Variety of Tomato to Grow )

टमाटर कई किस्मों में आते हैं, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप अपनी जलवायु और बढ़ती परिस्थितियों के लिए सही किस्म चुनें। यदि आप ठंडी जलवायु में रहते हैं, तो आपको जल्दी पकने वाली किस्म चुननी चाहिए। यदि आपकी जलवायु गर्म है, तो आप देर से पकने वाली किस्म चुन सकते हैं।

टमाटर एक गर्म मौसम की फसल है और 20 से 30 डिग्री सेल्सियस के बीच तापमान में सबसे अच्छा प्रदर्शन करते हैं। 10 डिग्री सेल्सियस से नीचे के तापमान से टमाटर के पौधे क्षतिग्रस्त हो सकते हैं और फल नहीं दे सकते हैं।

कुछ सामान्य जलवायु समस्याएं हैं जो टमाटर को प्रभावित कर सकती हैं:

ठंडा मौसम: ठंडे मौसम से टमाटर के पौधे मुरझा सकते हैं और मर सकते हैं।

गर्मी का मौसम: गर्म मौसम टमाटर के पौधों को तनाव दे सकता है और फूलों और फलों को गिरा सकता है।

अत्यधिक वर्षा: अत्यधिक वर्षा से फफूंद रोग हो सकते हैं।

अत्यधिक सूखा: अत्यधिक सूखे से टमाटर के पौधे मुरझा सकते हैं और मर सकते हैं।

कुछ टमाटर की किस्में कुछ रोगों के प्रति प्रतिरोधी होती हैं। यदि आपके क्षेत्र में कोई विशेष रोग आम है, तो आपको उस रोग के प्रति प्रतिरोधी किस्म चुननी चाहिए।

यहाँ कुछ लोकप्रिय टमाटर किस्में और उनके उपयोग हैं:

पोमाग्रानो: यह एक जल्दी पकने वाली किस्म है जो ताजा खाने के लिए अच्छी है।

रोमा: यह एक देर से पकने वाली किस्म है जो सॉस और कैनिंग के लिए अच्छी है।

चैरी टमाटर: ये छोटे, मीठे टमाटर हैं जो नाश्ते के लिए अच्छे हैं।

हीरलूम टमाटर: ये विरासत किस्में हैं जो अद्वितीय स्वाद और रंगों की पेशकश करती हैं।

टमाटर उगाने के लिए सही स्थान चुनना ( Choosing the Right Place to Grow Tomatoes )

टमाटर को पनपने के लिए कुछ महत्वपूर्ण परिस्थितियां आवश्यक हैं।

  1. सूर्य का प्रकाश: टमाटर को प्रतिदिन कम से कम छह घंटे पूर्ण सूर्य की आवश्यकता होती है। यदि उन्हें पर्याप्त धूप नहीं मिलती है, तो वे फल नहीं देंगे।
  2. मिट्टी: टमाटर को ढीली, अच्छी जल निकासी वाली मिट्टी में उगाया जाना चाहिए। मिट्टी का पीएच 6.0 और 6.8 के बीच होना चाहिए।
  3. जल निकासी: टमाटर को गीली मिट्टी में नहीं उगाया जाना चाहिए, क्योंकि इससे जड़ सड़ सकती है। अच्छी जल निकासी वाली मिट्टी चुनें या यदि आवश्यक हो तो उठाए हुए बिस्तर का उपयोग करें।
  4. हवा का संचार: टमाटर को अच्छी हवा का संचलन चाहिए ताकि फफूंदी रोगों को रोका जा सके।

टमाटर के पौधे लगाना ( Planting Tomato Plants )

टमाटर की खेती बीज या पौध से शुरू की जा सकती है।

बीज से:

बीजों को घर के अंदर, अंतिम ठंढ से छह से आठ सप्ताह पहले बोएं।

बीजों को अच्छी गुणवत्ता वाले बीज-प्रारंभ मिश्रण में बोएं और उन्हें नम रखें।

जब बीज अंकुरित हो जाएं, तो उन्हें धूप वाली जगह पर रखें।

जब अंतिम ठंढ बीत जाए, तो पौधों को बाहर रोपें।

पौध से:

अपने स्थानीय नर्सरी या बागवानी केंद्र से स्वस्थ पौधे खरीदें।

पौधों को अच्छी जल निकासी वाली मिट्टी में रोपें।

पौधों को नियमित रूप से पानी दें।

पौधों को खाद दें।

पौधों को सहारा दें।

टमाटर लगाते समय कुछ महत्वपूर्ण बातें:

पौधों को कम से कम 2 फीट की दूरी पर लगाएं।

पौधों को गहराई से रोपें ताकि जड़ें मिट्टी में अच्छी तरह से स्थापित हो सकें।

रोपण के बाद पौधों को अच्छी तरह से पानी दें।

टमाटर के पौधों को पानी देना और खाद देना ( Watering and Fertilizing Tomato Plants )

टमाटर को नियमित रूप से पानी देने की आवश्यकता होती है, खासकर गर्म, शुष्क मौसम में।

प्रति सप्ताह एक इंच पानी देने का लक्ष्य रखें।

सुबह जल्दी पानी देना सबसे अच्छा है, ताकि पत्तियों को सूखने का समय मिल सके।

पानी देते समय, मिट्टी को गीला करना सुनिश्चित करें, न कि पत्तियों को।

ओवरवॉटरिंग से बचें, क्योंकि इससे जड़ सड़ सकती है।

बढ़ते मौसम के दौरान हर दो सप्ताह में एक बार उन्हें संतुलित उर्वरक खिलाएं।

आप खाद या खाद का भी उपयोग कर सकते हैं।

खाद या खाद डालने से पहले, मिट्टी को अच्छी तरह से पानी दें।

खाद या खाद को पौधे के चारों ओर फैलाएं और इसे मिट्टी में मिला दें।

यहाँ कुछ अतिरिक्त टिप्स दिए गए हैं:

मिट्टी की नमी की जांच करने के लिए अपनी उंगली का उपयोग करें। यदि मिट्टी सूखी है, तो पानी देने का समय आ गया है।

यदि आप गीली घास का उपयोग करते हैं, तो इसे पौधे के आधार से दूर रखें।

बारिश के बाद पानी देने की आवश्यकता नहीं है।

यदि आप टमाटर के पौधों को बहुत अधिक पानी देते हैं, तो पत्तियां पीली हो सकती हैं और गिर सकती हैं।

यदि आप टमाटर के पौधों को पर्याप्त खाद नहीं देते हैं, तो पौधे कमजोर हो सकते हैं और कम फल दे सकते हैं।

टमाटर के पौधों का समर्थन करना ( Supporting Tomato Plants )

टमाटर लताएं हैं, और उन्हें बढ़ने के लिए सहारे की आवश्यकता होती है। यदि उन्हें सहारा नहीं दिया जाता है, तो वे जमीन पर गिर जाएंगे और फल खराब हो जाएंगे।

टमाटर के पौधों का समर्थन करने के लिए आप कई तरीकों का उपयोग कर सकते हैं:

खूंटे:

यह सबसे सरल तरीका है।

लकड़ी या धातु के खूंटे का उपयोग करें जो कम से कम 3 फीट लंबे हों।

खूंटे को पौधे के पास जमीन में गाड़ दें।

पौधे को खूंटे से बांधने के लिए नरम रस्सी या कपड़े का उपयोग करें।

पिंजरे:

यह टमाटर के पौधों का समर्थन करने का एक अच्छा तरीका है, खासकर यदि आपके पास कई पौधे हैं।

धातु या प्लास्टिक के पिंजरे खरीदें जो कम से कम 4 फीट ऊंचे हों।

पौधे को पिंजरे के अंदर रखें और इसे तार से बांध दें।

जाली:

यह टमाटर के पौधों का समर्थन करने का एक स्थायी तरीका है।

लकड़ी, धातु या प्लास्टिक की जाली खरीदें।

जाली को बगीचे में स्थापित करें।

पौधे को जाली से बांधने के लिए नरम रस्सी या कपड़े का उपयोग करें।

टमाटर के पौधों का समर्थन करते समय कुछ महत्वपूर्ण बातें:

पौधे को सहारा देने के लिए जल्दी से कार्य करें।

पौधे को बांधते समय बहुत अधिक कसाव न करें।

पौधे को नियमित रूप से जांचें और आवश्यकतानुसार समायोजन करें।

टमाटर के पौधों में कीटों और बीमारियों पर नज़र रखना ( Monitoring Pests and Diseases in Tomato Plants )

टमाटर कई कीटों और बीमारियों के प्रति संवेदनशील होते हैं। यदि इन समस्याओं का जल्दी से इलाज नहीं किया जाता है, तो वे आपके पौधों को नष्ट कर सकते हैं।

यहाँ कुछ सामान्य कीट और रोग हैं जिन पर आपको नज़र रखनी चाहिए:

कीट:

टमाटर का फल छेदक: यह एक छोटा, भूरा कीट है जो टमाटर के फल में छेद करता है और उन्हें अंदर से खा जाता है।

सफेद मक्खी: यह एक छोटा, सफेद कीट है जो पौधे से रस चूसता है और पत्तियों को पीला कर देता है।

माहूँ: यह एक छोटा, हरा या काला कीट है जो पौधे से रस चूसता है और पत्तियों को मुड़ने का कारण बनता है।

रोग:

पछेती झुलसा: यह एक कवक रोग है जो पत्तियों पर भूरे रंग के धब्बे का कारण बनता है।

अंतिम झुलसा: यह एक कवक रोग है जो पत्तियों और तनों पर काले रंग के धब्बे का कारण बनता है।

बैक्टीरियल विल्ट: यह एक जीवाणु रोग है जो पौधे को मुरझाने और मरने का कारण बनता है।

कीटों और बीमारियों के शुरुआती लक्षणों में शामिल हैं:

पत्तियों पर छेद या धब्बे

पत्तियों का पीला या भूरा होना

पत्तियों का मुड़ना या मुरझाना

तनों पर काले धब्बे

फल पर छेद या धब्बे

यदि आप इनमें से किसी भी लक्षण को देखते हैं, तो आपको तुरंत कार्रवाई करनी चाहिए:

संक्रमित पौधों के अंगों को हटा दें और उन्हें नष्ट कर दें।

अपने पौधों को नियमित रूप से पानी दें, लेकिन उन्हें ज़्यादा पानी न दें।

अपने पौधों को अच्छी तरह से हवादार रखें।

कीटनाशकों या कवकनाशकों का उपयोग करें, यदि आवश्यक हो।

टमाटर की कटाई कैसे करें ( How to Harvest Tomatoes )

टमाटर पकने पर लाल हो जाते हैं। जब वे पूरी तरह से पक जाते हैं, तो वे नरम और थोड़े झुर्रीदार हो जाते हैं। टमाटर की कटाई करने के लिए, बस उन्हें बेल से हटा दें।

टमाटर की कटाई करते समय कुछ महत्वपूर्ण बातें:

सुबह जल्दी टमाटर की कटाई करें, जब वे अभी भी ठंडे हों।

टमाटर को काटने के लिए तेज चाकू या कैंची का उपयोग करें।

टमाटर को बेल से धीरे से हटा दें।

टमाटर को सीधे धूप से दूर, ठंडी और सूखी जगह पर स्टोर करें।

टमाटर की खेती में लागत और कमाई ( Cost and Earning in Tomato Cultivation )

टमाटर की खेती में लागत और कमाई कई कारकों पर निर्भर करती है, इसीलिए लागत और कमाई के बारे में केवल अनुमानित जानकारी होती है।

टमाटर की खेती में लागत खेती का क्षेत्रफल, बीज, खाद, उर्वरक, कीटनाशक, कवकनाशी और सिंचाई आदि के सारे खर्चों को मिलाकर ₹ 45,000 प्रति हेक्टेयर आती है।

टमाटर की खेती में कमाई उत्पादन और बाजार मूल्य के हिसाब से  ₹ 300000 प्रति हेक्टेयर होती है जिसमें से लागत जो हटा दें तो ₹ 250000 लाभ प्राप्त होता है।

वास्तविक लागत और कमाई आपके द्वारा उपयोग किए जाने वाले इनपुट, आपके द्वारा उगाए जाने वाले टमाटर की किस्म और आपके द्वारा प्राप्त बाजार मूल्य के आधार पर भिन्न हो सकती है।

टमाटर की खेती एक लाभदायक व्यवसाय हो सकता है। यदि आप उचित योजना बनाते हैं और अच्छी कृषि पद्धतियों का उपयोग करते हैं, तो आप अच्छी कमाई कर सकते हैं।

टमाटर की खेती में अधिक लाभ कमाने के लिए निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें।

उच्च गुणवत्ता वाले बीज और पौधे का उपयोग करें।

मिट्टी की उर्वरता का परीक्षण करवाएं और उचित मात्रा में खाद और उर्वरक का उपयोग करें।

कीटों और बीमारियों से बचाव के लिए एकीकृत कीट प्रबंधन (IPM) तकनीकों का उपयोग करें।

अपनी फसल को पानी देने के लिए आधुनिक सिंचाई प्रणालियों का उपयोग करें।

अपनी फसल को उचित समय पर और उचित तरीके से बाजार में लाएँ।

मैथी की खेती में लागत और कमाई ( Cost and Earning in Fenugreek Cultivation )

मैथी की खेती में खाद, उर्वरक, बीज, सिंचाई, कटाई, मढ़ाई और अन्य सारे खर्चे मिलाकर कुल लागत 80 से 90 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर आती है।

मैथी की खेती में पत्तियां, बीज आदि मिलाकर कमाई 250000 से 350000 लाख रुपये प्रति हेक्टेयर होती है।

आप शबला सेवा की मदद कैसे ले सकते हैं? ( How Can You Take Help of Shabla Seva? )

  1. आप हमारी विशेषज्ञ टीम से खेती के बारे में सभी प्रकार की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।
  2. हमारे संस्थान के माध्यम से आप बोने के लिए उन्नत किस्म के बीज प्राप्त कर सकते हैं।
  3. आप हमसे टेलीफोन या सोशल मीडिया के माध्यम से भी जानकारी और सुझाव ले सकते हैं।
  4. फसल को कब और कितनी मात्रा में खाद, पानी देना चाहिए, इसकी भी जानकारी ले सकते हैं।
  5. बुवाई से लेकर कटाई तक, किसी भी प्रकार की समस्या उत्पन्न होने पर आप हमारी मदद ले सकते हैं।
  6. फसल कटने के बाद आप फसल को बाजार में बेचने में भी हमारी मदद ले सकते हैं।

संपर्क

अधिक जानकारी के लिए हमसे संपर्क करें +91 9335045599 ( शबला सेवा )

आप नीचे व्हाट्सएप्प (WhatsApp) पर क्लिक करके हमे अपना सन्देश भेज सकते है।

Become our Distributor Today!

Get engaged as our distributor of our high quality natural agricultural products & increase your profits.

Translate »